विश्व की तीन चौथाई आबादी पर कहर बरपाएगी जानलेवा गर्मी

0
118

ग्लोबल वार्मिंग के चलते विभिन्न देशो को बाढ़, सूखे जैसी आपदाओं का सामना करना पड़ा रहा है इसके बावजूद ग्रीनहॉउस गैस का उत्सर्जन कम करने को लेकर वे गभीर नही है. अगर ऐसा  ही चलता रहा तो दुनिया की तीन चौथाई आबादी को जानलेवा गर्मी का सामना करना पड़ सकता है युनिवर्सिटी ऑफ़ हवाई के वैज्ञानिकों की ताजा रिपोर्ट बताती है कि इस सदी के अंत तक विश्व के अधिकांश देश भीषण गर्मी की चपेट में होंगे, जिसके चलते बड़े स्तर पर लोगों की मौत भी हो सकती है.

गर्मी से कहाँ कितनी मौतें

(1980 से 2017 के बीच )

शहर मौतें साल
मास्को 10,800 2010
पेरिस 4,900 2003
शिकागो 740 1995

 

1,900

अध्ययन में शामिल स्थान

1980-2017

बढ़ते तापमान से हुई मौतों के जुटाए आंकड़े इतने वर्षो के है,

उत्सर्जन के आधार पर अध्ययन

वैज्ञानिकों ने गर्मी से हुई मौतों का अध्ययन करने के बाद पता लगाया की की आखिर किसी सीमा के बाद गर्मी हंलेवा रूप ले लेती है. मौजूदा रफ्तार से हो रहे उत्सर्जन के आधार पर इसे मापा गया.

भूमध्य रेखा के पास खतरा

इस क्षेत्र के पास मौजूद इलाको को सबसे अधिक खतरा है. इंसान सामान्य रूप से 37 डिग्री से. तक का तापमान बर्दाश्त कर सकता है, यदि वह पसीने के जरिये अपना तापमान संतुलित कर ले. आर्द्रता बढने पर ऐसा नही हो पता. लिहाजा गर्मी जानलेवा बन जाती है.

एक तिहाई आबादी आई चपेट में

अध्ययन में पाया गया की साल 2000 में दुनिया की एक तिहाई आबादी ने 20 दिनों तक का सामना किया.

नही बढ़ेगी रोग प्रतिरोधक क्षमता

जिस रफ्तार से वैश्विक तापमान में इजाफा हो रहा है, उस रफ्तार से इंसानों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा नही होगा.

इंसानी गतिविधियां जिम्मेदार

प्राक्रतिक कारणों की बजाय इंसानी गतिविधियां धरती को 170 गुना रफ्तार से गर्म कर रही है. इसके चलते 80 वर्षो में 74 फीसद आबादी पर गर्मी कहर बरपाएगी. वहीं 47 फीसद को जानलेवा और विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा.

53 डिग्री सेल्सियस चढ़ा डेथ वैली का पारा

अमेरिका के पश्चिमी राज्य कैलिफोर्निया में स्थित डेथ वैली या मौत की घाटी में पारा 53 डिग्री सेल्शियस पर पहुँच गया है. अरिजोना के सीमावर्ती शहरो के तापमान में भी इतना ही इजाफा दर्ज किआ जा रहा है.

अमेरिकी मौसम विभाग नेशनल वेदर सर्विस के मुताबिक अगले कुछ दिनों में तापमान से और बढ़ोत्तरी दर्ज की जाएगी. वहीं सप्ताहांत तक इसमें 10 डिग्री की गिरावट आएगी. गर्मी के चलते अमेरिकन एयरलाइन्स ने अपनी कई उड़ाने रद्द कर दी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here