इस मुस्लिम देश में होती है चंद घंटों के लिए शादी

0
52

Nikah Mut’ah – एक ऐसा मुस्लिम देश जहां खासतौर पर महिलाओं पर कई तरह की पाबंदिया हैं, वहां आज निकाह मुताह युवाओं की पसंद बनता जा रहा है। दरअसल, निकाह मुताह एक तरह की प्लेजर मैरिज या यूं कहें कान्ट्रैक्ट मैरिज है। इसके तहत कोई भी कपल कुछ मिनटों से लेकर 99 साल तक के लिए शादी कर सकते हैं। हालांकि, निकाह मुताह के लिए शादी से पहले ही यह तय करना होता है कि कितने समय के लिए यह निकाह किया जा रहा है।

अलग-अलग मीडिय रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिघेह के नाम से भी पहचानी जाने वाली इस शादी को काफी पुराना बताया जाता है। हालांकि, ईरान में इसे मंजूरी साल 2005 में मिली। ईरान में गैरशादीशुदा कपल्स को डेट पर जाने या हाथों में हाथ डालने तक की इजाजत नहीं है। इसके बदले उन्हें जुर्माना और कोड़े खाने पड़ते हैं। इसके चलते उन्हें टेम्परेरी मैरिज का सहारा लेना पड़ता है। इसमें शादी कुछ मिनट से लेकर 99 साल तक के लिए की जा सकती है।

इस निकाह के तहत लड़कों को अपनी शॉर्ट टर्म वाइफ के लिए भी मेहर की रकम तय करनी पड़ती है। साथ ही, अपार्टमेंट के किराए की तरह मैरिज कॉन्ट्रैक्ट पर शादी की मियाद तय होती है। शादी की मियाद और मेहर की रकम पहले से तय होती है और इसके लिए एक प्राइवेट कॉन्ट्रैक्ट एडवांस में बनाया जाता है। शादी का कॉन्ट्रैक्ट जब खत्म हो जाता है तो लड़की को दोबारा शादी करने के लिए दो बार पीरियड्स आने का इंतजार करना होता है।

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, तेहरान में हेयरड्रेसर का काम करने वाली मरियम ने बताया था कि उसे डेटिंग के लिए अपने ब्वॉयफ्रेंड करीम से टेम्परेरी शादी करनी पड़ी थी। मरियम के मुताबिक, वो दोनों अक्सर बाहर जाया करते थे और ऐसे में वो किसी मुश्किल में नहीं फंसना चाहती थी।

मरियम और करीम ने इसीलिए टेम्परेरी मैरिज की, ताकि कहीं रोका जाए तो वो ये दिखा सकें कि वो कोई भी गैरकानूनी काम नहीं कर रहे हैं। धार्मिक और कानूनी तौर पर मंजूरी के बाद भी ईरान में टेम्परेरी मैरिज बहुत ज्यादा पॉपुलर नहीं है। यहां की परंपरा के मुताबिक, शादी के वक्त लड़की का वर्जिन होना जरूरी है। ऐसे में बहुत से ईरानी सिगेह (निकाह मुताह) को लीगल प्रॉस्टिट्यूशन के तौर पर देखते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here