आप प्याज खाते हैं तो यह पोस्ट जरूर पढ़े!

0
228

आजकल प्याज का उपयोग हमारी रसोई में बहुत ही आम बात है। बिना प्याज के कोई भी सब्जी हो या कोई भी व्यंजन अच्छा नहीं बनता। लेकिन क्या आपको पता है कि हमारी रसोई में उपयोग होने वाली प्याज कई रोगों की दवा है? आइए आज हम आपको बताते हैं कि प्याज से आप किन-किन रोगों का उपचार घर बैठे आसानी से कर सकते हैं और अंग्रेजी दवाइयों के दुष्प्रभाव से बच सकते हैं।

कान का दर्द:

कान के दर्द के लिए प्याज को गर्म राख में भूनकर उसका पानी निचोड़ लें। अब इस पानी को दर्द वाले कान में डालिए। कान दर्द मिनटों में छूमंतर हो जाएगा।

बिच्छू का जहर:

अगर किसी को बिच्छू काट ले तो प्याज का रस और नौसादर को बराबर मात्रा में लेकर खरल में कूट लें। मक्खी, बिच्छू, ततैया आदि के काटने वाले स्थान पर इसे लगाइए, दर्द जल्दी ही ठीक हो जाएगा।

मोतियाबिंद:

अगर मोतियाबिंद की परेशानी है या आंखों से कम दिखाई देता है तो प्याज का रस, शहद और भीमसेनी कपूर एक 1 ग्राम लेकर सबको खूब मिलाकर रात में नेत्रों में लगाने से मोतियाबिंद ठीक हो जाता है।आंखों की ज्योति बढ़ने लगती है, और चश्मा लगाने की भी जरुरत नहीं होती।

पेशाब में जलन:

पेशाब में जलन होने पर प्याज के 20 ग्राम प्रति 20 ग्राम पानी डालकर उसे भोपाल आधार होने पर थोड़ा ठंडा करने पेशाब की जलन ठीक हो जाएगी।

लू लगने पर:

गर्मियों में लू लगने पर प्याज के रस से छाती और पीठ पर मालिश करें, इससे लू का असर कम हो जाता है। कच्ची प्याज का उपयोग भी लू में बहुत अधिक सहायक होता है और अगर कच्ची प्याज का उपयोग गर्मियों में किया जाए तो लू लगने की संभावना 90% तक कम हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here