पेट्रोल पम्प में चिप और रिमोट का खेल

0
349

पेट्रोल पम्प पर ईधन भरवाते समय आप भले ही मीटर पर नजरें गड़ा कर रखें, लेकिन तेल की चोरी करने वाले आपकी नाक के नीचे से तेल चुरा रहे है. इसमें एस से बढकर एक तकनीकों का इस्तेमाल किया जा रहा है. हाल ही में लखनऊ में तकनीक के बूते पेट्रोल की चोरी करते पंप वाले पकड़े गये वहां लोगो को एक लीटर पेट्रोल के दाम पर 940 मिली पेट्रोल ही दिया जा रहा था. यह चपत चिप और रिमोट कंट्रोल से लगाई जा रही थी. खुलेआम होने वाली इस लूट को रोकने की दिशा में तेल कंपनिया उतनी संजीदा नही दिखती जितनी दिखनी चाहिए.

चिप और रिमोट का खेल

पेट्रोल पम्प की मशीन में चिप लगाई जाती है. जिसे रिमोट से संचालित किया जाता है. वाहन में तेल डालते समय रिमोट दबाते ही तेल गिरना बंद हो जाता है, लेकिन मशीन पर लगे मीटर अपनी रफ्तार से चलते रहते है. एक लीटर ईधन में से कितना कम करना है यह सॉफ्टवेर पर सेट किया जाता है इस सॉफ्टवेर की कीमत पांच से 10 लाख रूपये है.

सर्किट में सॉफ्टवेर

यह सॉफ्टवेर पेट्रोल पम्प की मशीन के सर्किट में लगाया जाता है. ग्राहक को जितना ईधन कम देना है उतना आंकड़ा पहले से ही फिर तय करके सर्किट को मशीन की डिस्प्ले यूनिट में लगा दिया जाता है. इसके बाद मशीन उतना ही पेट्रोल अथवा डीजल देती है, जितना सॉफ्टवेर ने तय किया है.

  • एक चिप की कीमत 3 हजार रूपये होती है.
  • 6% पेट्रोल कम निकलता है चिप लगाने के बाद.
  • एक लीटर में से 60 मिलीलीटर ईधन चुरा लेते है चिप के जरिये.
  • इस चोरी से एक पेट्रोल पम्प की अनुमानित मासिक कमाई 14 लाख होती है.

बरतें सावधानी

रिजर्व से पहले भरवाएं पेट्रोल: वाहन का ईधन टैंक जितना खाली होगा उसमे उतनी ही हवा रहेगी. हवा के कारण ईधन की मात्र कम मिलेगी इसलिये आधा टैंक होने पर ही ईधन भरा ले 500 व हजार रूपये के बजाये 525 अथवा 1155 जैसी राशि का पेट्रोल भराएँ इससे चोरी की गुन्जायिश कम होती है.

डिजिटल मीटर वाले पम्प चुने: ईधन भरवाने के लिए उन्ही पेट्रोल पम्प पर जाये जहाँ डिजिटल मीटर हो पुराने पम्प की मशीनों से कम पेट्रोल भरे जाने की आशंका अधिक रहती है.

मीटर पर बनाये रखे नजर: हमेश मीटर को जीरो पर सेट करवाकर ही ईधन डलवाए मीटर की रीडिंग तीन से शुरू हो तो नुकसान की आशंका कम होती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here