कोबरा के जहर का काला कारोबार

0
48

नागराज या कोबरा जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि सांपों का राजा। इसके काटने से मजह 15 मिनट के भीतर ही इंसान की मौत हो जाती है। खास बात यह है कि तस्करों का एक बड़ा गिरोह कोबरा का जहर के लिए शिकार कर रहा है। इस जहर की कीमत करोड़ों में है और न सिर्फ भारत बल्कि विदेशों में भी इसकी खासी मांग है। इस जहर का इस्तेमाल दवाएं बनाने में तो होता ही है, नशे के शौकीनों के लिए भी ये नशीली दवाओं से कई गुना ज्यादा असरदार साबित होता है। खास बात यह है कि अगर पुलिस किसी तस्कर को गिरफ्तार भी करती है तो न्यूनतम सजा के चलते वह आराम से छूट जाता है।

दीगर है कि अपने उन्मुक्त व्यवहार के लिए रेव पार्टियां अक्सर चर्चा में रहती हैं। बेलगाम होती उन पार्टियों में कोबरा का जहर आजकल नशे का ताजा स्टेटस सिम्बल बन गया है। कोबरा के जहर का लगातार पकड़ा जाना इशारा करता है कि युवाओं में इस नशे का क्रेज किस कदर बढ़ रहा है। अब तक सांप का जहर पकड़े जाने के ज्यादातर किस्से मुम्बई या गोवा की रेव पार्टियों में सुनने में आते थे, लेकिन पिछले एक महीने में दो बार दिल्ली में कोबरा जहर बरामद होना इस बात का सबूत है कि दिल्ली की रेव पार्टियों में सांप के जहर की मांग कितनी बढ़ गई है।

हालांकि इसका ओवरडोज मौत का कारण भी बन सकता है। बावजूद इसके इस नशे का इस्तेमाल तेजी से बढ़ रहा है। राजधानी दिल्ली में नौ जुलाई को दो लोग पकड़े गए। इनके पास से बरामद जहर की विदेशी बाजार में कीमत तकरीबन 38 करोड़ रुपए है। उनसे पूछताछ में ही खुलासा हुआ कि कोबरा के एक बूंद जहर की कीमत अब विदेशी बाजारों में लाखों रुपए हो चुकी है। इस घटना के बाद 18 जुलाई को नोएडा में भी एक सांप तस्कर गिरफ्तार किया गया। इस गिरफ्तारी में सात किग कोबरा बरामद किए गए। इसके अलावा उसके पास से पांच ब्लैक कोबरा, पांच रैट स्नेक, एक सैंड बोआ सांप की खाल भी बरामद की गई। एक कोबरा की कीमत बाजार में तकरीबन 25 लाख रुपए है।

लखनऊ के महानगर क्ष्ोत्र में छात्र के पास से एक लीटर जहर बरामद हुआ। बरामद जहर की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत एक करोड़ रुपए आंकी गई है। सिर्फ एशियाई देशों में ही नहीं बल्कि कई यूरोपीय देशों में भी भारत के किग कोबरा के जहर की जबरदस्त मांग है। विश्ोषज्ञ बताते हैं कि रेव पाटिय्रों मंे जबरदस्त मांग के चलते ही जहर की तस्करी का गोरखधंधा दिन पर दिन जोर पकड़ता जा रहा है।

क्या कहती है पुलिस
अगर किसी के पास से कोबरा का जहर बरामद होेता है तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 284 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाता है। इस धारा में महज छह माह का कारावास या फिर एक हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान है,
इसलिए आरोपी को तत्काल जेल नहीं भ्ोजा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here