जिम जाएं, पर इन बातों का रखें ध्यान

0
107

आप एक्सरसाइज कर रहें हैं और इससे आपकी कैलोरीज बर्न हो रही है यह सोचकर आप ओवर ईटिंग ना करने लग जाएं। इससे आपके जिम में जाने का कोई फायदा नहीं होगा। जिम जाने से एक घंटा पहले कुछ भी नहीं खाएं। खाने में प्रोटीन, विटामिन, मिनरल्स, कार्बोहाइड्रेट और कैल्शियम का सही अनुपात होना चाहिए। जिम जाने से पहले और आने के  बाद आप खाने की शुरुआत फल व स्नैक्स से करें। अगर आप बॉडी बनाना चाहते हैं तो मार्केट से लेकर कोई भी सप्लीमेंट ना खाएं। जिम ज्वॉइन करने के दौरान अपनी डायट को भी लेकर सचेत रहें।

अठाईस वर्षीय टीना शादी के बाद से काफी हैल्दी हो गई। उसे देखकर हर कोई टोक देता। इस वजह से टीना काफी तनाव में रहने लगी। फिर उसकी सहेलियों ने उसे जिम ज्वॅाइन करने की सलाह दी। आनन-फानन में उसने जिम भी ज्वॉइन कर लिया। लेकिन ये क्या? जिम ज्वॅाइन किये हुए उसे छह महीने से भी ज्यादा हो गए, लेकिन उसकी सेहत पर रत्ती भर का भी फर्क नहीं पड़ा। टीना सोच में पड़ गयी कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। वह अपना समय और पैसा दोनों बर्बाद कर रहीं है फिर भी उसका मकसद पूरा नहीं हो पा रहा है।

असल में इसकी वजह वह खुद ही थी। वह रोज जिम जाती थी, पर वह जिम ना करके दूसरों लोगों के साथ बातों में लग जाती थी। वहीं अंकित हैल्थ कॉशंस होने के नाते जिम तो ज्वॉॅइन कर लिया लेकिन चार दिन बाद ही उसने जिम न जाने का मन बना लिया। असल में ऐसा निर्णय उसने अपने बॉडी में बढ़ते हुए पेन को देखकर लिया। तो देख लिया ना आपने टीना और अंकित का हाल। ऐसा ही होता है जब हम कभी खुद वजन घटाने के मकसद से तो कभी दूसरों की देखा-देखी जिम ज्वॉइन करते हैं लेकन वहां जाकर अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं ।

नई दिल्ली स्थित इंडियन स्पाइनल इंयोरिज सेंटर के न्यूरो स्पाइन सर्जन डा. अमिताभ गुप्ता का कहना है कि ऐसा आपके साथ भी ना हो, इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखे।

स्पाइनल से जुड़ी समस्या कर सकती है परेशान  

छोटे-छोटे जिम में अक्सर अनट्रेंड जिम ट्रेनर होते है। इनकी देखरेख में लोग गलत तरीके से व क्षमता से अधिक वजन उठाते हैं। जिसके कारण रीढ़ के चोटिल होने का खतरा बढ़ जाता है। गलत तरीके से व्यायाम करने से आज 16 से 3० साल के युवा भी स्पाइनल से जुड़ी समस्याओं के शिकार हो रहे हैं। इससे रीढ़ के उत्तक टूटते हैं और आस-पास के मांसपेशियां कमजोर हो जाती है।

यह समस्या 16 से 18 वर्ष के युवकों में अधिक होती है, क्योंकि उनके रीढ़ का विकास इसी अवस्था में होता है। विभिन्न अस्पतालों में आने वाले मरीजों के क्लिनिकल रिसर्च के आधार पर पाया गया कि पिछले दस साल में 16 से 3० साल के आयु वर्ग के लोग स्पाइन से जुड़ी समस्याओं के शिकार हो रहे हैं। इतना ही नहीं गलत वर्कआउट के फलस्वरूप होने वाली समस्याओं मेंं गर्दन से जुड़ी समस्या भी आम देखी गयी है और इस दर्द के कारण विकृत होते डिस्क संबंधी रोग, गर्दन का चोटिल हो जाना व हरनिएटेड डिस्क भी रहा है।

लिमिट में करें व्यायाम

कहीं आप उन लोगों में से तो नहीं है जो जल्द फायदे के चक्कर में फटाफट और अधिक व्यायाम करने में यकीन रखते हैं। ऐसे में जहां गलत एक्सरसाइज होने का डर रहता हैं, वहीं ज्यादा एक्सरसाइज से थकावट भी हो सकती है। इसलिए हमेशा जिम ट्रेनर के बताएं गए निर्देश के मुताबिक ही एक्सरसाइज करें। एक रिसर्च के मुताबिक ज्यादा एक्सरसाइज करने से हेयर फॉल की समस्या हो सकती है।

ब्रेक भी जरूरी

वर्कआउट या एक्सरसाइज का ये मतलब नहीं है कि आप लगातार वर्कआउट ही करते रह जाएं। चूंकि वर्कआउट के दौरान शरीर से पसीना ज्यादा निकलता हैं, इसलिए बीच-बीच में एक से दो मिनट का रेस्ट लेते रहें। इस बीच आप सादा पानी या नमक मिले हुए नीबू पानी ले सकते हैं, ताकि आप दुबारा से एर्नजी स्टोर कर के वर्कआउट करें। ऐसा नहीं करने से आप बहुत जल्दी थक जाएेंगे और फिर आपका मन भी वर्कआउट करने में नहीं लगेगा।

खुद से ना करें वर्कआउट

किसी की देखा-देखी या फिर टीवी व नेट पर देखकर कोई भी एक्सरसाइज खुद करना शुरू ना करें। ऐसा करने से कमर दर्द, जोडों का दर्द , स्लिप डिस्क जैसी समस्यायें हो सकती है, क्योंकि हरेक एक्सरसाइज हरेक को सूट नहीं करती। इसलिए कोई भी व्यायाम शुरू करने से जिम ट्रेनर की सलाह लेना ना भूलें।

ट्रेनर से ना छुपाएं हेल्थ

मशहूर टीवी एक्टर अबीर गोस्वामी का के स तो आपको याद ही होगा, जिनकी मौत जिम में वर्कआउट करते समय हार्ट अटैक के दौरान हो गई। इसलिए जिम ज्वॉइन करते समय ट्रेनर को अपने पर्सनल हैल्थ डिटेल के बारे में बताना ना भूलें। आपको अस्थमा की प्रॉब्लम हो, स्पाइन की प्रॉब्लम या फिर स्लिप डिस्क की। इन सब बीमारी में जिम ज्वॉइन करने से पहले डॉक्टरी सलाह लेना ना भूलें। इन बीमारी में दौड़ना या फिर भारी वजन उठाना खतरे से खाली नहीं है। इन सब के बारे ट्रेनर को भी बताना ना भूलें।

जरूरत का सामान ले जाएं साथ

जिम में वर्कआउट करते समय अपने पर्सनल सामान ले जाना न भूलें। जैसे की टॉवेल, पानी की बॉटल वर्कआउट करने वाले कपड़े आदि। हालांकि कई जिम इसे खुद भी प्रोवाईड करते है। पर हाईजिन को ध्यान में रखते हुए मशीन पर बैठने से पहले एक बार इस कपड़े या टॉवेल से वाइप कर दें ताकि पसीने से पैदा हुए किटाणु खत्म हो जाएं।

हल्के-फुल्के व्यायामों से करें शुरुआत

जिम में शुरुआत हल्के-फुल्के व्यायाम से करें। ताकि बॉडी वर्कआउट करने के लिए अच्छे से तैयार हो जाए। बॉडी में इससे स्ट्रेच नहीं पड़ती तथा मसल्स में दर्द नहीं होता है।

डायट का भी रखें ध्यान

आप एक्सरसाइज कर रहें हैं और इससे आपकी कैलोरीज बर्न हो रही है यह सोचकर आप ओवर ईटिंग ना करने लग जाएं। इससे आपके जिम में जाने का कोई फायदा नहीं होगा। जिम जाने से एक घंटा पहले कुछ भी नहीं खाएं। खाने में प्रोटीन, विटामिन, मिनरल्स, कार्बोहाइड्रेट और कैल्शियम का सही अनुपात होना चाहिए। जिम जाने से पहले और आने के बाद आप खाने की शुरूआत फल व स्नैक्स से करें। अगर आप बॉडी बनाना चाहते हैं तो मार्केट से लेकर कोई भी सप्लीमेंट ना खाएं। जिम ज्वॉइन करने के दौरान अपने डायट को भी लेकर सचेत रहें।

बेकार की बातों से रहें दूर

आप काफी लंबे समय से जिम जा रहें है फिर भी आपको कोई फायदा नहीं हो रहा है। कहीं इसका कारण आपका वहां पर फालतू बातों में तो उलझे रहना तो नहीं है। कई ऐसे लोग होते हैं जो जिम को टाइम पास करने का अड्रडा समझते हैं। कहीं आपका भी पाला ऐसे लोगों से तो नहीं पड़ गया है। अत: ऐसे लोगों से तुरंत सावधान हो जाएं और अपना पूरा ध्यान वर्क आउट पर लगाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here