करियर बदलने से पहले, सोचें दस बार

0
112

किसी भी करियर में बहुत आगे बढ़ने के बाद कई युवा साथी करियर शिफ्ट करने की इच्छा रखते हैं। वे एक तरह की जिदगी से कुछ अलग करना चाहते हैं जो उनके दिल को पसंद हो। इस प्रकार के करियर शिफ्ट में न केवल जोखिम रहता है बल्कि यह करियर का एक ऐसा मोड़ होता है जहां आप पर आर्थिक रूप से बहुत बोझ भी रहता है।  ऐसे में अगर आप बदलाव कर रहे हैं तब इन बातों का जरूर ख्याल रखें- ऐसा न हो कि महज बदलाव के लिए आपने करियर शिफ्ट कर लिया पर बाद में महसूस हो कि आपने अपने हाथों से पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली है।

कुछ मामलों में पैसा सब कुछ नहीं

कई बार करियर में बदलाव करते समय अगर आप यह सोचते हैं कि जो कार्य वर्तमान में कर रहे हैं उसमें आमदनी कम हो रही है। ऐसे में आपको करियर शिफ्ट करने से नए कार्यक्षेत्र में ज्यादा कमाई होगी तो आप गलत दिशा में सोच रहे हैं। प्रत्येक करियर में आगे बढ़ने के लिए अलग-अलग तरह की प्रक्रियाएं रहती हैं। इस कारण महज पैसे को देखकर ही करियर बदलने की गलती न करें।

देखादेखी में न लें फैसला

अक्सर यह देखने में आता है कि आप लगातार पांच-आठ वर्षों तक एक ही कम्पनी में कार्य कर रहें है और कम्पनी में काम करने वाले आपके दूसरे साथियों ने करियर शिफ्ट किया तो आप भी उनकी राह पर चल देते हैं। यह आप स्वयं के साथ खिलवाड़ करते हैं। हो सकता है करियर शिफ्ट करने के पीछे आपके साथियों के पास कोई पर्सनल रीजन हो या उसे उस क्ष्ोत्र में परेशानी हो रही हो। इसलिए जरूरी नहीं कि आप भी वही करें। आप अपनी सहूलियत देखें।

अपनी क्षमता को पहचानें

कई बार युवा साथी जोश में आकर करियर शिफ्ट करने के बारे में विचार करते हैं और बिना किसी मजबूत भूमिका के उस पर अमल भी करने लगते हैं। ऐसे में जब वे दूसरे करियर के लिए काम करने जाते हैं तो काफी असहज महसूस करते हैं। यह इसलिए होता है क्योंकि आप अपनी क्षमता से परिचित नहीं हैं। कोई कदम उठाने से पहले यह जरूर ध्यान दें कि क्या वाकई आपमें उतनी क्षमता है। किसी विकल्प का चयन मात्र इसलिए न करें क्योंकि वह आपके लिए अंतिम विकल्प है। यदि आप इस संबंध में किसी उलझन में हैं तो आत्मआंकलन बहुत जरूरी है।

सोच समझकर करें डिग्री का चयन

युवा साथी एक क्षेत्र में तकरीबन चार से पांच वर्ष के करियर बनाने के बाद दूसरे करियर को अपनाने के लिए नई डिग्री लेने से भी नहीं चूकते हैं। ऐसे में इस बात पर विशेष ध्यान दें कि आप पांच वर्षों बाद पुन: पढ़ाई करने जा रहे हैं। ये डिग्री आपको फायदेमंद भी साबित होगी या नहीं। क्योंकि आप डिग्री प्राप्त करने के लिए अलग ध्यान लगा रहे हैं और वर्तमान में जो काम कर रहे हैं उस पर आपका ध्यान ठीक से नहीं रहता है।

इन स्थितियों में आप न इधर के रहते हैं न उधर के। ऐसे में बेहतर होगा कि करियर में बदलाव सम्बन्धी बड़े फैसले अपने आप न करें। इस सम्बन्ध में आप अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों से खुलकर बात करें। साथ ही अगर आप चाहें तो किसी करिअर काउंसलर से भी मदद ले सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here